शुक्रवार, 19 अप्रैल 2013

मन कहीं भी रहे पर डिगेगा नहीं

डॉ विष्णु सक्सेना की एक कविता......

रेत पर नाम लिखने से क्या फायदा, एक आई लहर कुछ बचेगा नहीं।
तुमने पत्थर सा दिल हमको कह तो दिया पत्थरों पर लिखोगे मिटेगा नहीं।
    मैं तो पतझर था फिर क्यूँ निमंत्रण दिया
    ऋतु बसंती को तन पर लपेटे हुये,
    आस मन में लिये प्यास तन में लिये
    कब शरद आयी पल्लू समेटे हुये,
तुमने फेरीं निगाहें अँधेरा हुआ, ऐसा लगता है सूरज उगेगा नहीं।
    मैं तो होली मना लूँगा सच मानिये
    तुम दिवाली बनोगी ये आभास दो,
    मैं तुम्हें सौंप दूँगा तुम्हारी धरा
    तुम मुझे मेरे पँखों को आकाश दो,
उँगलियों पर दुपट्टा लपेटो न तुम, यूँ करोगे तो दिल चुप रहेगा नहीं।
    आँख खोली तो तुम रुक्मिणी सी लगी
    बन्द की आँख तो राधिका तुम लगीं,
    जब भी सोचा तुम्हें शांत एकांत में
    मीरा बाई सी एक साधिका तुम लगी
कृष्ण की बाँसुरी पर भरोसा रखो, मन कहीं भी रहे पर डिगेगा नहीं।

प्रस्तुतकर्ता - मनोज कुमार शर्मा 

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 12 दिसम्बर 2015 को लिंक की जाएगी ....
    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 12 दिसम्बर 2015 को लिंक की जाएगी ....
    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. डॉ विष्णु सक्सेना जी की रचना पढ़वाने हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं